सच्ची इबादत – Sachhi Ibadat

amrita pritam poetry waaris shah poem - try giving a chance to communities that love
इक वार तां इश्कि-क़ौम नूं सद्द (give one chance to the community that loves)
August 18, 2009
Yin Yang Poster - Successful and Unsuccessful People
Yin Yang Poster – Successful and Unsuccessful People
April 22, 2013
Show all
इतनी सच्ची थी महवियत* उसकी मैंने पाया (engrossment)
उसकी किताबों का निचोड़ मलहम के काम (में) आया
itni sachhi thi mahwiyat* uski maine paaya
uski kitabon ka nichod malham ke kaam mein aaya
इतनी सच्ची थी हक़ीक़त उसकी, के वाक्या कोई
ना भूला उसका, ना फिर कुछ और ज़हन (में) आया
itni sachhi thi haqiqat uski key vaakya koi
ik na bhoola uska na ik zahan mein aaya
इतनी सच्ची थी मोहब्बत उसकी, जो गुल ना खिला
तो लौट के फिर वो, ना इस चमन (में) आया
itni sachhi thi mohabbat uski, jo gul na khila
toh laut ke phir voh, na iss chaman mein aaya

इतनी सच्ची थी मेहमाननवाज़ी* उसकी (being a good host)
खुदा घर उसके कभी ना खाली हाथ आया

इतना सच्चा था कबूल उसका
की आँखों में दलील ना सवाल आया

इतनी सच्ची थी तिजारत* उसकी जब भी तोला उसने  (job/ profession)
के मोल का ख्याल ना उसके मन में आया

इतनी सच्ची थी वसीयत उसकी के ज़िंदा रहते भी
उसका हर अशरार भी रब के नमन में आया

इतनी सच्ची थी खिलाफत उसकी के उसके बाद
उसका ज़िक्र-ए-जिहाद कुरान-ए-सफन में आया

इतनी सच्ची थी मुरव्वत* उसकी के उसका रसूख (modesty, respect, civility)
इक रोज़ नयी तहज़ीब के आगाज़-ए-सुख़न में आया

इतनी सच्ची थी नज़ाक़त उसकी, के जब बोला
तो हर हर्फ़ का निशां उसके ज़हन में आया

इतनी सच्ची थी मुसल्लत* उसकी सबके दिलों के ऊपर (subdued, conquered – tabiz has musallat/ hold over ills)
मुड़के न फिर कोई गुल इस चमन में आया

इतनी सच्ची थी इबादत उसकी, के खुदा भी मिला
वो न कभी दैर गया, न हराम में आया

 इतनी सच्ची थी ज़िन्दगी उसकी के उसकी रात
का रंग हमारे दिन को सजाने के काम आया

itni sachhi thi tijaarat* uski jab bhi tola usne (job/ profession)
key mol ka khayal uske na man mein aaya

itni sachhi thi vasiyat uski ke zinda rehte bhi
uska har ashr bhi rab ke naman mein aaya

itni sachhi thi khilaafat uski ke uske baad
uska zikr-e-jihad kuran-e-safan mein aaya

itni sachhi thi murawwat* uski ke istamal uska
ik roz nayi tahzeeb key janam mein aaya

itni sachhi thi nazaaqat uski ke zor sey jo bola
to harfon ka nishan uske zahan mein aaya

itni sachhi thi musallat* uski sabke dilon ke upar
mudkey na phir koi gul is chaman mein aaya

itni sachhi thi ibaadat uski ke khuda bhi mila
na kabhi daeyr gaya na haram mein aaya

itni sachhi thi niyat uski ke dushman ko “raaz”
aakhir aaram usike siley kafan mein aaya

=====================================
2009110821352300
musallat=subdued, conquered (tabiz has musallat/ hold over ills)
mahwiyat = engrossment
murawwat=modesty, respect, civility
tijarat = job/ profession

फ़ज़ीहत

इतनी सच्ची थी शराफत उसकी के आंसुओं में
उसके नज़र मुझे झलकता हुआ कहकशां आयाइतनी सच्ची थी तरबियत* उसकी बावजूद जिरह-ए-वाइज़
मुर्शीद के ही हक़ में उसका हर बयान आया

इतनी सच्ची थी कैफियत* उसकी के जो किसीने उसे टोका
तो जिरह में खुद रसल-ए-खुदा का पयाम आया

इतनी सच्ची थी जन्नत उसकी के गरचे वो ना गया
उठकर खुदा वहां से लेने उसे यहां आया

इतनी सच्ची थी खिलाफत* उसकी के उसके इक नुक़्ते को (or “key nuqtachini karne)
खुदा लेके क़ुरान-ए-शरीफ पे लगे निशान आया

इतनी सच्ची थी खोज उसकी के हुआ पैदा बार-बार
बन के बिरहमन आया या बन के मुस्लमान आया

इतनी सच्ची थी जराहत* उसकी के मर्ज़ तो गया वले
माथे पर भी मरीज़ के शिकन न निशाँ आया

इतनी सच्ची थी जुर्रत* उसकी के फिर उस रोज़-ए-डेनिश
हिज्र* के सारे पन्ने पलटकर दिल-ए-नादां आया

इतनी सच्ची थी तशवीशत* उसकी के नीचे पैरहन के
जो देखा तो नज़र हमें सलीब का निशान आया

इतनी सच्ची थी उक़ूबत* उसकी के अपनी पैरवी में
जुबां पे उसके इस जहाँ से किसी का ना नाम आया

इतनी सच्ची थी वसीयत उसकी के सभी पन्नों पर
रब के सिवा किसी दूसरे का कभी ना नाम आया

इतनी सच्ची थी फुरक़त* उसकी के बस मौत से पहले
आखरी सांस की जगह लबों पे सिर्फ इक नाम आया

इतनी सच्ची थी तुर्बत* उसकी के दुनिया का हर गुल
उगा उसीके बगल में, फलने उसीके ग़ाम आया

itni sacchi thi sharafat uski key aansuown mein
uske nazar mujhe jhalaktka hua kehkashan aaya

itni sachhi thi tarbiyat uski bavjood waiz-e-jirah
mursheed ke hi haq mein uska har bayaan aaya

itni sachhi thi kaefiyat uski key jo kisine use toka
to jirah mein khud rasl-e-khuda ka payaam aaya

itni sachhi thi jannat uski key garche vo na gaya
uthkar khuda vahaan sey lene use yahaan aaya

itni sachhi thi khilafat uski key uske ik nuqtey ko (or “key nuqtachini karne)
khuda leke quran-e-sharif pey lage nishan aaya

itni sachhi thi (search) uski key hua paida bar-bar
ban ke birahmin aaya ya ban key musalman aaya

itni sachhi thi jaraahat uski ke marz to gaya vale
mathe par bhi mareez key shikan n nishaan aaya

itni sachhi thi jurrat uski ke phir us roz-e-danish
hijr ke saare panne palatkar dil-e-naadan aaya

itni sachhi thi tashveshat uski ke niche pairhan ke
jo dekha to nazar hamein saleeb ka nishan aaya

itni sacchi thi uqoobat uski key apni pairwi mein
zubaan pey uske is jahan se kisi ka na naam aaya

itni sacchi thi sharafat uski key aansuown mein
uske nazar mujhe jhalaktka hua kehkashan aaya

itni sacchi thi vasiyat uski ke sabhi panno par
rab ke siva kisi doosrey ka kabhi na naam aaya

itni sacchi thi urqat uski ke bas maut se pehle
aakhri saans ki jagah labon pe sirf ik naam aaya

itni sacchi thi turbat uski ke duniya ka har gul
ugaa usike bagal mein, fallne usike gaam aaya

=====================================
2009110909000930

adaawat=aggression, animosity, enmity, envy, gall, hatred, hostility, malice, spite
jaraahat=surgery
kaefiyat=feedback, account, affection, quality, remark, report
kaifiyyat=circumstances, explanation, narrative, situation
roz-e-danish=day of enlightenment
takhleeq=book
tarbiyat=education, training
tashveshat=concerns
Turabat=grave, tomb
Urqat=separation
Uqoobat=pain, punishment, torment, torture

फ़ज़ीहत